Home News Headlines नींव की ईंट बने कारसेवक की दर्द भरी दास्तां:कारसेवकों के बलिदान से...

नींव की ईंट बने कारसेवक की दर्द भरी दास्तां:कारसेवकों के बलिदान से फर्श से अर्श पर पहुँची राजनैतिक पार्टियां

जब धर्म संसद के साथ फिर एक बार राम मंदिर देश की राजनीति के केन्द्र में आ रहा है सियासी दल फिर अयोध्या का रुख कर रहे हैं तब अंचल के दर्द का टीस में बदल जाना लाजिमी है कि फिर कोई अंचल सियासत का मोहरा न बन जाए। राम जन्मभूमि आंदोलन के साथ अयोध्या कूच करके कई कारसेवकों ने अपनी राजनीति चमकाई। कुछ सियासी दलों ने ज़मीन से उठकर सत्ता की कुर्सी पाई लेकिन कुछ ऐसे भी कि जिन्हें माया मिली न राम अयोध्या में होने जा रही धर्म संसद के साथ जिनके ज़ख्म फिर हरे हो रहे हैं।



भोपाल/मध्यप्रदेश………….


26 बरस पहले राम जन्मभूमि आंदोलन की बदौलत बीजेपी दो सीटों से उठकर देश की सत्ता तक पहुंच गई राम जन्मभूमि आंदोलन रिटर्न, इस सर्टिफिकेट के साथ कई नेता सियासत में सत्ता की सीढियां चढ गए। पर इस आंदोलन में सिर्फ भीड़ की हैसियत में रहे कारसेवकों के हिस्से में गुमनामी आई। अयोध्या में धर्म संसद के साथ जब राम मंदिर का मुद्दा फिर गरमाया है, एक ऐसे ही कार सेवक की कहानी, जिसने बाबरी विध्वंस में अपने शरीर का एक हिस्सा भी खो दिया और बाद के बरसों में सब्र भी खो रहा है।


क्या है मामला……………


भोपाल के नजदीक सुआखेड़ा गांव में रहने वाले इस कारसेवक की बाबरी विध्वंस के बाद के बरसों में सियासत बदलती गई, राजनेता भी बदले राम जन्मभूमि आंदोलन में किए गए बलिदान की कीमतें भी अदा हुईं, लेकिन इसी आंदोलन में शरीर का आधा हिस्सा गंवा चुके अंचल सिंह मीणा की जिंदगी जैसे उसी एक तारीख पर थम गई। गुंबद के एक हिस्से का मलबा अंचल की पीठ पर ऐसा गिरा कि सरकारें गिर जाने के बाद ही उसे होश आया शुरुआत में इलाज के दौरान तक बीजेपी नेताओं ने पूछ परख की, फिर ये कारसेवक किनारे हो गया अंचल का अफसोस बस इतना कि बलिदान का हासिल क्या हुआ 30 बरस की उम्र में अपाहिज हुए अंचल ने पिछले 26 साल जमीन पर घिसट कर गुजारे हैं। सिर से लेकर पैर तक शरीर के हर हिस्से पर जख्म हैं और दिलों दिमाग पर लगे जख्म तो और भी गहरे हैं। अंचल के बलिदान की कीमत उनकी पत्नी पान बाई ने भी चुकाई। ढाई तीन बरस के बच्चों की परवरिश अकेले की, परिवार भी संभाला और पति को भी सब बस रामभरोसे!



जिस जत्थे में अंचल और उन जैसे कारसेवक अयोध्या गए थे, उस जत्थे की अगुवाई कर रहे बजरंग दल के राजेन्द्र गुप्ता मंजूर करते हैं कि वो जुनून था। और उस जुनून में कईयों को सत्ता मिली और कई साथ और सहानुभूति के लिए भी तरसते रह गए।

Live Share Market :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

एक्सीलेंस इन इंवेस्टीगेशन पदकों की घोषणा,CBI,एमपी,महाराष्ट्र के पुलिस अधिकारियों ने बाजी मारी,पूरी लिस्ट देखें

बता दें कि राजधानी भोपाल के बागसेवनिया थाने में पदस्थ संजीव कुमार चौकसे को भी इस मेडल से सम्मानित किया गया है। 2015 सिविल...

डकैती की योजना बना रहे 6 हथियार बंद बदमाश पुलिस के हत्थे चढ़े

बता दें कि जिले की डबरा पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। डबरा पुलिस ने डकैती की योजना को विफल करते हुए 6...

क्राइम ब्रांच ने फरार चल रहे 25 हज़ार के इनामी पांच बदमाशों को धर दबोचा

ग्वालियर/मध्यप्रदेश। मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर में क्राइम ब्रांच के हाथ बड़ी सफलता लगी है। क्राइम ब्रांच ने आज अलग-अलग मामलों में फरार चल रहे 5-5...

एसपी को सांप ने काटा,जूते में छुपकर बैठा जहरीला साँप

बता दें कि बारिश के मौसम में अक्सर सांप के छोटे छोटे बच्चे घरों में आ जाते हैं और जूतों, अलमारियों या अन्य जगहों...

Recent Comments

error: Content is protected !!