Home Breaking News डिप्रेशन के चलते रेडियो कंट्रोल रूम में पदस्थ निरीक्षक (TI) ने की...

डिप्रेशन के चलते रेडियो कंट्रोल रूम में पदस्थ निरीक्षक (TI) ने की आत्महत्या

बता दें कि एमआइजी थाना क्षेत्र में रहने वाले इंदौर रेडियो कंट्रोल रूम में पदस्थ टीआई पुष्पेंद्रसिंह राणा ने 51 वर्ष की उम्र में मौत को गले लगा लिया। पुष्पेंद्र मूलतः आष्टा के रहने वाले थे। बताया जा रहा है कि उन्होंने 14 अक्टूबर को अपने घर में सल्फास की गोली खा ली थी।जिसके बाद उन्हें आनन फानन में सीएचएल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उपचार के दौरान आज सुबह उनकी मौत हो गई।


इंदौर/मध्यप्रदेश।

इंदौर के रेडियो कंट्रोल रूम में पदस्थ एक टीआई द्वारा खुदकुशी करने के मामले सामने आया है। बताया जा रहा है कि वह सालों से हार्ट की बीमारी से जुंझ रहे थे। बीमारी के कारण वह अवसाद से भी ग्रसित थे। पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को पीएम के लिए पहुँचाया है। हालांकि पुलिस यह जांच भी कर रही है कि आत्महत्या के पीछे कही कुछ और कारण तो नही था। आत्महत्या के पीछे की असल कहानी सामने नहीं आ पा रही है। परिवार वाले भी ज्यादा कुछ बोलने की स्थिति में नहीं हैं। सुबह अस्पताल के बाहर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी और पुष्पेंद्र के रिश्तेदार जमा थे।

क्या है पूरा मामला

प्राप्त जानकारी के अनुसार,पुलिस अधिकारियों के अनुसार मूलत: आष्टा के रहने वाले पुष्पेंद्र सिंह राणा उम्र 51 वर्ष लम्बे समय से हृद्य रोग की बीमारी से पीड़ित रहे, इसके अलावा भी उन्हे अन्य बीमारियों ने घेर लिया था। करीब दो माह पहले उनका तबादला अन्य जिले में हो गया था, हालांकि उन्हे बाद में तबादला निरस्त हो गया, इसके बाद से वे रेडियो कंट्रोल रुम में ड्यूटी करते रहे। 14 अक्टॅूबर को उन्होने घर में ही सल्फास की गोलियों का सेवन कर लिया, जिससे उनकी हालत बिगड़ गई, परिजनों ने देखा तो तत्काल ही सीएचएल अस्पताल पहुंचाया, जहां पर डाक्टरों ने हालत को देखते हुए भरती कर उपचार शुरु कर दिया। आज सुबह पुष्पेन्द्र सिंह राणा की उपचार के दौरान मौत हो गई। टीआई राणा की मौत की खबर मिलते ही एसपी रेडियो सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंच गए, जिन्होने परिजनों को ढांढस बंधाया, पुलिस अधिकारियों का कहना है कि तबादला होने के बाद वह तनाव में रहे लेकिन निरस्त होने के बाद से वे नियमित ड्यूटी करते रहे। आत्महत्या का कारण बीमारी ही है या और कोई कारण यह जांच के बाद पता चल सकेगा।

इनका कहना

रेडियो एसपी सुनील राजोरा ने बताया कि पुष्पेंद्र का डेढ़ माह पहले ही अन्य जिले में तबादला हो गया था। उसको लेकर भी वह तनाव में थे। हालांकि बाद में तबादला निरस्त करवा लिया था। उन्हें रेडियो एसपी के दफ्तर में पदस्थ कर दिया गया था। 2002 से उन्हें हार्ट की समस्या थी, जिसका इलाज चल रहा था। हालांकि आत्महत्या की असली वजह जांच के बाद ही सामने आएगी।

Live Share Market :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बीजेपी नेता डॉक्टर भल्ला को,धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार कर तिहाड़ जेल भेजा

बता दें कि ईएनटी विशेषज्ञ डॉक्टर अवतार सिंह भल्ला मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार में राज्य अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य भी रह चुके हैं। कांग्रेस...

द बर्निंग ट्रेन:ट्रेन की बोगियों में लगी भीषण आग,तीन बोगियां जलकर खाक,कोई जनहानि नही

बता दें कि मुरैना के सराय छोला थाना क्षेत्र के हेतमपुर स्टेशन पर अचानक उधमपुर एक्सप्रेस में भीषण आग लगी, अचानक लगी इस आग...

हेड कांस्टेबल थाना परिसर में लगे पेड़ पर फांसी के फंदे पर झूला,मौत

अशोकनगर/मध्यप्रदेश। मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले के मुंगावली थाने में पदस्थ प्रधान आरक्षक दलपत सिंह अहिरवार ने थाना परिसर के अंदर ही नीम के पेड़ से...

भाजपा नेता को थाने के सामने पीटा,फिर कराई छेड़छाड़ की एफआईआर

बता दें कि मुरार थाना पुलिस ने इस मामले में काफी समझदारी से काम लिया है। पुलिस ने भाजपा नेता की भाभी इन्द्रा पत्नी...
error: Content is protected !!