Home News Headlines अपराध और अपराधियों पर लगाम कसने के लिए,यूपी पुलिस ने तैयार किया...

अपराध और अपराधियों पर लगाम कसने के लिए,यूपी पुलिस ने तैयार किया ‛त्रिनेत्र ऐप’

बता दें कि जून 2018 तक यूपी की योगी सरकार के 16 महीने के कार्यकाल में अब तक पुलिस और अपराधियों के बीच 2244 एनकाउंटर हुए। यूपी पुलिस द्वारा जारी की गई लिस्ट के अनुसार इन एनकाउंटर में 5387 अभियुक्त गिरफ्तार किए गए, वहीं 59 अपराधी मार गिराए गए। इस दौरान 4 पुलिसकर्मी शहीद भी हुए, वहीं करीब 400 पुलिसकर्मी घायल भी हुए।



मुजफ्फरनगर/उत्तरप्रदेश……….


अपराध पर शिकंजा कसने के लिए यूपी पुलिस ने 'त्रिनेत ऐप' विकसित किया है जिसमें बदमाशों की पूरी कुंडली दर्ज रहेगी। मोबाइल पर कहीं भी कोई पुलिसकर्मी किसी भी अपराधी का पूरा रिकॉर्ड देख सकेगा। एक विशेष पुलिस सेल ऐप में दर्ज बदमाशों के गतिविधियों की मॉनिटरिंग करेगी।

सिटी एसपी की मानें तो मुजफ्फरनगर पुलिस अब नए क्रिमिनल्स की हिस्ट्रीशीट खोलने की मुहिम चलाने जा रही है। जिले में हुए कई वारदातों में नए लोगों के शामिल होने की जानकारी मिल रही है। ओमवीर सिंह के मुताबिक अभी तक करीब 250 नए क्रिमिनल्स की हिस्ट्रीशीट खोली जा चुकी है। यह आंकड़ा जल्द 400 तक पहुंच जाएगा जिले के सभी थानेदारों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है।


क्या हैं 'त्रिनेत्र' एप……….


त्रिनेत्र एप महज पुलिस अधिकारियों के सीयूजी नंबर पर ही डाउनलोड किया जा सकता है। इसके लिए हर जिले को पासवर्ड मिलेगा। इसके मुखिया जिले के कप्तान होंगे वे सभी थाना व चौकी प्रभारियों को पासवर्ड उपलब्ध कराएंगे इसके बाद थानावार या क्षेत्र में पकड़े गए बदमाशों के नाम, पता या मोबाइल नंबर एप पर डाले जाएंगे इस प्रक्रिया के बाद अपराधी का पूरा इतिहास खुल जाएगा।

यही नहीं आंकड़े गवाही दे रहे हैं सबसे ज्यादा पुलिस और अपराधियों में भिड़ंत पश्चिम उत्तर प्रदेश में देखने को मिली। इनमें मेरठ में 720, आगरा में 601 और बरेली में 343 एनकाउंटर हुए। यानी 2244 एनकाउंटर में से 1664 एनकाउंटर पश्चिम उत्तर प्रदेश के ही खाते में गए हैं।


मुजफ्फरनगर पुलिस ने तैयार की सूची………


दरअसल मार्च 2018 में मुजफ्फरनगर पुलिस ने 2 हजार से अधिक हिस्ट्रीशीट वाले बदमाशों की जांच की थी, जिसमें पाया गया था कि इनमें से 700 अपराधी या तो मर चुके हैं, या फिर क्राइम छोड़कर सामान्य जीवन जी रहे हैं। एसपी सिटी ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान 70 अपराधी घायल हो चुके हैं। वहीं 9 के करीब बदमाश मुठभेड़ में मारे जा चुके हैं।

सिटी एसपी ने बताया कि अपराधियों की हिस्ट्रीशीट और गैंगस्टर की फाइल बंद करने के लिए तीन कैटेगरी बनाई गई है। पहली कैटेगरी में ऐसे अपराधी शामिल किए गए थे, जिनकी मौत हो चुकी है।वहीं, दूसरी कैटेगरी में उन अपराधियों को रखा गया था कि जिन्होंने गलती से क्राइम किया था और उनका कोई आपराधिक इतिहास नहीं था जबकि तीसरी कैटिगरी में ऐसे अपराधी शामिल थे जिन्होंने सात वर्षों में कोई क्राइम ही नहीं किया। वहीं कुछ अपराधी जो बहुत उम्रदराज हो चुके हैं पुलिस ने ऐसे करीब 600 अपराधियों की हिस्ट्रीशीट को बंद कर दिया है।

Live Share Market :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बड़ी कामयाबी:अंतर्राज्यीय हाईवे डकैती गिरोह का पर्दाफाश,15 करोड़ से अधिक के मोबाइल फोन जप्त

♠पुलिस ने एक अंतर्राज्यीय लूट का बड़ा खुलासा किया है, पुलिस ने आरोपियों के पास से 15 करोड़ के मोबाइल फोन बरामद किए हैं।...

विनम्र श्रद्धांजलि:डबरा एसडीएम राघवेंद्र पांडे का कोरोना से निधन,इलाज के दौरान दम तोड़ा

बता दें कि एसडीएम श्री पांडे के निधन की यह खबर सुनते ही पूरे जिले के प्रशासनिक एवं मीडिया जगत में दुख की लहर...

हत्या या हादसा:TI ने लॉकअप में बंद युवक को गोली मारी,मौत,SP हटाए गए,परिजन को 10 लाख की आर्थिक सहायता

बता दें कि चोरी के संदेह पर सतना जिले के सिंहपुर थाना के लॉकअप में बंद एक युवक की थानेदार की सर्विस रिवॉल्वर से...

DG पुरुषोत्तम शर्मा का पत्नी से मारपीट का वीडियो वायरल,पद से हटने के बाद बयान,घरेलू मामला खुद सुलझा लूंगा

भोपाल/मध्यप्रदेश। मध्यप्रदेश के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में आईपीएस पुरुषोत्तम शर्मा अपनी पत्नी की बेरहमी से...

Recent Comments

error: Content is protected !!