Home News Headlines लोकायुक्त ने जिला चिकित्सालय के रिश्वतखोर लेखापाल पुरुषोत्तम बुचके को,रंगे हाथों धर...

लोकायुक्त ने जिला चिकित्सालय के रिश्वतखोर लेखापाल पुरुषोत्तम बुचके को,रंगे हाथों धर दबोचा

बता दें कि लोकायुक्त पुलिस के सूत्रों अनुसार बाल चिकित्सालय में पदस्थ इंचार्ज सिस्टर रानी नेल्सन ने जीपीएफ की रकम निकलवाने के लिए आवेदन दिया था। लेखापाल पुरुषोत्तम बुचके ने रानी नेल्सन से जीपीएफ की रकम निकालने के बदले 10 प्रतिशत रिश्वत की मांग की थी। रानी नेल्सन के जीपीएफ से 85000 रु स्वीकृत किए गए थे, जिसके बदले में पुरुषोत्तम बुचके ने साढ़े आठ हज़ार रु की मांग की थी।



रतलाम/मध्यप्रदेश………….


मध्यप्रदेश में रिश्वत के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। रविवार को भी लोकायुक्त भ्रष्टाचारियों को आराम करने का मौका नहीं दे रही है। खबर आ रही है रतलाम जिले से जहां पर जिला अस्पताल के लेखापाल पुरुषोत्तम बुचके को बाल चिकित्सालय की इंचार्ज सिस्टर रानी नेल्सन से आठ हजार की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त पुलिस ने रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया। लेखापाल ने यह रिश्वत सिस्टर नेल्सन के पीएफ खाते से राशि निकालने के बदले मांगी थी। रिश्वतखोर लेखापाल को निकाली गई राशि का 10 फीसदी हिस्सा चाहिए था। रविवार की दोपहर को इंचार्ज सिस्टर नेल्सन ने उसे आठ हजार की राशि थमाई वैसे ही लोकायुक्त डीएसपी वेदांत शर्मा और उनकी टीम ने रिश्वतखोर लेखापाल को धरदबौचा।


क्या है पूरा मामला……………


प्राप्त जानकारी के अनुसार फरियादी और बाल चिकित्सालय की इंचार्ज सिस्टर रानी नेल्सन ने बताया कि उसने सितंबर माह के मध्यम में अपने पीएफ खाते से एक लाख रुपए निकालने के लिए लेखापाल को आवेदन किया था। लेखापाल बुचके ने राशि नहीं होने का कह कर पहले 26 हजार रुपए निकालने की अनुशंसा की। बाद में नेल्सन को उसने कहा कि ज्यादा राशि निकालना हो तो राशि लगेगी। इसके बाद उसने 85 हजार रुपए निकालकर देने की बात कही और इसके बदले निकाली गई राशि का 10 फीसदी हिस्सा रिश्वत के रूप में देने के लिए कहा। नेल्सन ने बताया उनके खाते की राशि पर भी 10 फीसदी हिस्सा मांगे जाने की हां कर दी। जब उसने राशि निकाल दी तो वह हिस्सा लेने के लिए पिछले कई दिनों से परेशान करने लगा। इस दौरान वह बाहर होने से नहीं दे पाई तो लेखापाल ने उसे भला बुरा भी कहा। रविवार को उसे राशि देने के लिए बाल चिकित्सालय आने को कहा।

नेल्सन ने बताया कि दूरभाष पर ही बुचके से उनकी चर्चा हुई थी। बुचके को उन्होंने पांच हजार रुपए देने की बात कही तो बुचके ने कहा कि पांच सौ रुपए कम करके आठ हजार से कम नहीं लेगा। साथ ही यह भी कहा कि तुम्हें कोई तमीज है कि नहीं कि इतनी बड़ी राशि के बदले केवल पांच हजार रुपए ही दे रही हो। बातचीत की रिकार्डिंग लेकर सिस्टर नेल्सन शनिवार को लोकायुक्त के संपर्क में आई और उज्जैन जाकर पूरी कार्रवाई की। इसके बाद लेखापाल को रविवार को बाल चिकित्सालय आकर राशि ले जाने को कहा। दोपहर करीब एक बजे इंचार्ज सिस्टर बाल चिकित्सालय में ड्यूटी पर थी। योजना के अनुसार बुचके उनसे राशि लेने पहुंचा। इस दौरान लोकायुक्त टीम बाल चिकित्सालय में ही मौजूद थी। जैसे ही बुचके को राशि दी तो उसने लेकर जेब में रखी। इस पर लोकायुक्त टीम ने धरदबौचा और सिस्टर कक्ष में ले जाकर उसके हाथ धुलवाए तो पानी लाल हो गया।

Live Share Market :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बड़ी कामयाबी:अंतर्राज्यीय हाईवे डकैती गिरोह का पर्दाफाश,15 करोड़ से अधिक के मोबाइल फोन जप्त

♠पुलिस ने एक अंतर्राज्यीय लूट का बड़ा खुलासा किया है, पुलिस ने आरोपियों के पास से 15 करोड़ के मोबाइल फोन बरामद किए हैं।...

विनम्र श्रद्धांजलि:डबरा एसडीएम राघवेंद्र पांडे का कोरोना से निधन,इलाज के दौरान दम तोड़ा

बता दें कि एसडीएम श्री पांडे के निधन की यह खबर सुनते ही पूरे जिले के प्रशासनिक एवं मीडिया जगत में दुख की लहर...

हत्या या हादसा:TI ने लॉकअप में बंद युवक को गोली मारी,मौत,SP हटाए गए,परिजन को 10 लाख की आर्थिक सहायता

बता दें कि चोरी के संदेह पर सतना जिले के सिंहपुर थाना के लॉकअप में बंद एक युवक की थानेदार की सर्विस रिवॉल्वर से...

DG पुरुषोत्तम शर्मा का पत्नी से मारपीट का वीडियो वायरल,पद से हटने के बाद बयान,घरेलू मामला खुद सुलझा लूंगा

भोपाल/मध्यप्रदेश। मध्यप्रदेश के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में आईपीएस पुरुषोत्तम शर्मा अपनी पत्नी की बेरहमी से...

Recent Comments

error: Content is protected !!