Home News Headlines करोड़ो के मालिक सेवानिवृत्त DSP पर FIR दर्ज,14 साल में 1200 फीसदी...

करोड़ो के मालिक सेवानिवृत्त DSP पर FIR दर्ज,14 साल में 1200 फीसदी बढ़ी संपत्ति

FIR के मुताबिक, इन पर आरोप है कि ज्ञात आय के स्रोतों से अतिरिक्त संपत्तियां अर्जित कर के अवैध रूप से अपने को समर्थ किया है। शिकायत के आधार पर FIR दर्ज हुई है और इस मामले की जांच भ्रष्टाचार निवारण संगठन मेरठ की तरफ से की जा रही हैं।



नोएडा/उत्तरप्रदेश…………


यूपी के नोएडा जिले से एक मामला सामने आया है। जहां नोएडा प्राधिकरण में तैनात रहे रिटायर्ड डीएसपी हर्षवर्धन भदौरिया के खिलाफ थाना सेक्टर-49 में आय के अधिक संपत्ति में एफआईआर दर्ज की गयी है। पूरी कार्रवाई भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत पुलिस महानिरीक्षक के निर्देश पर की गई है। एंटी करप्शन टीम के इंस्पेक्टर अरविंद कुमार की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। इसमें आय से 1178 प्रतिशत अधिक संपत्ति जुटाने का आरोप लगाया गया है।


क्या है पूरा मामला…………


पुलिस को दी गई तहरीर के अनुसार मूलरूप से इटावा निवासी हर्षवर्धन भदौरिया ने 30 मई, 1981 को यूपी पुलिस में बतौर सब इंस्पेक्टर ज्वाइनिंग की थी। साल 2003 तक वह दूसरे जिलों में तैनात रहे और साल 2003 में ही नोएडा प्राधिकरण में तैनाती प्राप्त कर ली इस दौरान तत्कालीन सरकार के दिग्गज नेता के संरक्षण में भदौरिया की साल 2003 से संपत्ति में अचानक बढ़ोतरी होती चली गई और फिर इन्हीं कारणों से चर्चा में आ गए। आय से अधिक संपत्ति जुटाने के मामले की शिकायत एंटी करप्शन ब्यूरो को मिली, जिसके बाद जांच शुरू कर दी गई। 1 जनवरी, 2003 से 29 मई, 2017 तक भदौरिया की शुद्ध आय वेतन, भर्ती, एरियर की मिलाकर 8 लाख 32 हजार 324 रुपये। लेकिन इस बीच भदौरिया ने प्लॉट खरीदने आदि पर 10 करोड़ 63 लाख 76 हजार 352 रुपये खर्च किए. इससे सीधे 9 करोड़ 80 लाख 53 हजार 328 रुपये की संपत्ति अधिक पाई गई जो उनकी आय से 1178 प्रतिशत अधिक निकली। उनके खिलाफ कई बेनामी संपत्ति होने की भी आशंका ब्यूरो ने व्यक्त की है। जांच के दौरान आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने को लेकर सवाल किए गए, लेकिन हर्षवर्धन भदौरिया जवाब नहीं दे पाए। आला अधिकारियों के निर्देश पर आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज कराने का निर्णय लिया गया। भ्रष्टाचार की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद जिलेभर में उनको लेकर चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। उनके आलीशान कोठी से लेकर प्राधिकरण में तैनाती के दौरान धाक को लेकर भी लोग आपस में बात करते दिखे।



इनका कहना…………


हर्षवर्धन भदौरिया ने कहा कि मेरे खिलाफ झूठी शिकायत पुलिस महानिदेशक से की गई थी। जांच में भ्रष्टाचार निवारण संगठन को मेरे खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिला था तो मेरे आवास का मूल्यांकन मौजूदा रेट पर किया गया जो गलत है। मैं इस संबंध में न्यायालय की शरण लूंगा।

Live Share Market :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

दुःखद:ड्यूटी पर जाते समय सड़क दुर्घटना में आरक्षक की दर्दनाक मौत,तीन घायल

शाजापुर/मध्यप्रदेश। झाबुआ जिले में पदस्थ आरक्षक की सड़क दुर्घटना में दर्दनाक मौत हो गई। दरअसल,अपने घर से ड्यूटी जाते समय थाना सुनेरा के भीलवाडिया जोड़...

क्राइम के बादशाह MLA:कांग्रेस विधायक विपिन वानखेड़े और TI के बीच बहस का वीडियो वायरल

बता दें कि कांग्रेस विधायक विपिन वानखेड़े वर्तमान में एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष हैं और यूथ कांग्रेस के प्रबल दावेदार हैं। सोमवार को बड़ौद...

लोगों की सेवा करतें हुए कोरोना से शहीद हुए युवा डॉ शुभम उपाध्याय,इलाज के दौरान दम तोड़ा

बता दें कि भोपाल में उनका स्वास्थ्य लगातार बिगड़ता चला गया। परिजन आर्थिक रूप से भी परेशान हो गए। ऐसे में सागर के लोगों...

BIG SALUTE:आरक्षक ने एक साल का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान किया

जांजगीर-चंपा/छत्तीसगढ़। खाकी के आपने कई रंग देखे होंगें पर कुछ अच्छे और कुछ बुरे पर खाकी का ये रंग अनोखा है। लोग इसकी भूरी-भूरी प्रशंसा...
error: Content is protected !!